` 15 तारीख से कोविड कर्फ्यू में राहत की उम्मीद लगाये बैठे लोगों को एक हफ्ता और करना पड़ेगा इन्तजार

15 तारीख से कोविड कर्फ्यू में राहत की उम्मीद लगाये बैठे लोगों को एक हफ्ता और करना पड़ेगा इन्तजार

सूत्रों से पता चला है कि कोविड कर्फ्यू एक हफ्ता और बढाया जायेगा 

सूत्रों से मिली सूचना के अनुसार 15 तारीख से राहत की उम्मीद लगाए बैठे लोगों को अभी एक हफ्ता और इंतजार करना पड़ेगा | जी हाँ 15 तारीख से बाज़ार खुलने के कोई आसार नहीं हैं, कहा जा रहा है कि अभी कोविड कर्फ्यू को एक हफ्ता और बढाया जाएगा |  इस दौरान वर्तमान व्यवस्था को ही बरकरार रखने की तैयारी है। सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल जी के अनुसार आंकड़ों की समीक्षा करने के बाद ही कर्फ्यू के संबंध में कोई निर्णय लिया जाएगा, इसको लेकर सोमवार को फैसला कर लिया जाएगा।

uttarakhand-gyan

प्रदेश में लागू कोविड कर्फ्यू की अवधि 15 जून को सुबह छह बजे समाप्त हो रही है। इसे देखते हुए सभी की नजरें सरकार पर टिक गई हैं कि वह कर्फ्यू हटाएगी या फिर इसे कुछ दिन और बढाकर रखेगी। ये बात भी सामने आ रही कि यदि कर्फ्यू हटाया गया या फिर ज्यादा ढील दी गई तो कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए अब तक की गयी  मेहनत पर पानी फिर जायेगा। इसे देखते हुए फूंक-फूंक कर आगे कदम बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है।

किन्तु यह विचार भी किया जा रहा है कि जिन जिलों में कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है, वहां क्षेत्र विशेष को कर्फ्यू से छूट देने के संबंध में जिलाधिकारी निर्णय ले सकते हैं। सरकार के द्वारा जिलाधिकारियों को पहले ही इसके लिए अधिकृत कर कर दिया गया  है।             

व्यापार मंडल समिति ने 5 दिन बाज़ार खोलने के लिए किया आग्रह 

प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल समिति ने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर समाप्ति की ओर है, इसलिए बाजार को सप्ताह में पांच दिन खोला जाए। रविवार सुबह साढ़े दस बजे प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल समिति की वर्चुअल बैठक आयोजित की गई थी । बैठक में प्रदेश संयोजक राजेंद्र गोयल ने बताया कि अब धीरे-धीरे उत्तराखंड और पूरे देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर समाप्त होने की कगार  पर है। ऐसे में प्रदेश के सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठान खोले जाने और व्यापारियों को अधिक राहत प्रदान की जाने की आवश्यकता है।

बैठक में गढ़वाल प्रभारी विनोद गोयल और महानगर देहरादून अध्यक्ष आनंद स्वरूप गुप्ता ने बताया की गर्मी के कारण मिठाई जल्द ही खराब हो जाने वाली चीज है। ऐसे में फल और सब्जी व्यापार की तरह ही मिठाई की दुकानों को कम से कम पांच दिन तक खुला रखने की आवश्यकता है, जिससे इनका का कारोबार करने वाले व्यापारियों को आर्थिक नुकसान न झेलना पड़े। महानगर महामंत्री विवेक अग्रवाल ने बताया इस कोरोना काल में व्यापारी वर्ग ने धैर्य और संयम का परिचय दिया। अपनी जान की परवाह नहीं की व प्रदेश के समस्त उपभोक्ता वर्ग के साथ ही सामान्य जन की जिस तरह जमीन से जुड़कर तन मन धन से सेवा की है, उसके लिए आवश्यक सेवाओं से संबंधित व्यवसाय करने वाले व्यापारियों को राज्य सरकार की ओर से कोरोना वारियर घोषित किए जाने की आवश्यकता है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ