` उत्तराखंड के लोकप्रिय हिल स्टेशन ! Best Hill Station in Uttarakhand

उत्तराखंड के लोकप्रिय हिल स्टेशन ! Best Hill Station in Uttarakhand

मरने से पहले एक बार उत्तराखंड के इन खूबसूरत हिलस्टेशन की शैर अवश्य करें 

हिमालय कि गोद में बसा उत्तराखंड राज्य को देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि स्थानीय लोगों कि आस्था के आनुसार यहाँ की भूमि पर कण-कण में देवी-देवताओं का निवास स्थान है | हिमालय कि गोद में बसा होने के कारण यह राज्य प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण है | प्राकृतिक सौन्दर्यता के साथ साथ यहाँ कि जलवायु भी कुछ ख़ास ही है, जिसकी वजह से यहाँ का मौसम हमेशा ही सुहावना रहता है |

उत्तराखंड राज्य की खूबसूरती तथा प्राकृतिक सुन्दरता को निहारने प्रतिवर्ष यहाँ लाखों शैलानी भ्रमण के लिए आते हैं और यहाँ की सुन्दर वादियों कि सुन्दरता को देखकर रोमांचित होते हैं | आज के लेख में हम बताएँगे कि आपको उत्तराखंड के किन-किन हिल स्टेशनों कि शैर आपको अवश्य करनी चाहिए |

उत्तराखंड के लोकप्रिय हिल स्टेशन ! Best Hill Station in Uttarakhand

Auli ( औली )

उत्तराखंड का खुबसूरत पर्यटन स्थल औली समुद्र तल से 2800 मीटर की ऊँचाई पर स्थित स्कीइंग के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है | वैसे तो शरद ऋतु में इस स्थान पर प्राकृतिक बर्फ़बारी भारी मात्रा में होती है, किन्तु फिर भी यहाँ पर तकनीकी मशीनों द्वारा कृत्रिम रूप से बर्फ बनायीं जाती है |जिसकी बजह से औली हमेशा ही पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बना रहता है | 

Best Hill Station in Uttarakhand

औली में स्कीइंग का प्रशिक्षण लेने दुनिया भर से लोग यहाँ पर पहुँचते हैं, क्योंकि इस तरह के स्कीईंग सेंटर पूरी दुनिया में बहुत कम हैं | ITBP का स्कीईंग प्रशिक्षण केंद्र भी औली में ही स्थित है |

 यह स्थान चमोली जिले के मुख्य पर्यटन स्थलों में से एक है, तथा स्थानीय लोगों के द्वारा औली को भारत का स्विट्ज़रलैंड कहा जाता है | यहाँ के आसपास का हरा-भरा जंगल प्राकृतिक संपदाओं का भण्डार है |

Mussoorie  ( मसूरी )

समुद्रतल से लगभग 2005 मीटर की ऊँचाई पर स्थित मसूरी उत्तराखंड राज्य का प्रसिद्ध हिल स्टेशन है तथा इसे पहाड़ों की रानी के नाम से भी जाना जाता है और यह उत्तराखंड राज्य का पहला हिल स्टेशन है | 

Best Hill Station in Uttarakhand

First hill station of Uttarakhand की खोज सन 1825 में कैप्टन यंग के द्वारा की गयी थी तथा सन 1827 में यहाँ पर पहली इमारत बनायीं गयी थी जिसका नाम "मलिंगार होटल" था | मसूरी में स्थित दर्शनीय स्थल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं, जिनमे से कैम्पटी जलप्रपातभट्टा जलप्रपातलंढौर बाजारतोप टिब्बागन हिलधनौल्टीतिब्बती स्तूपकुलड़ी बाजार तथा हार्डी जलप्रपात मुख्य हैं |

गन हिल यहाँ की सबसे ऊँची पहाड़ी है जिसकी ऊँचाई समुद्रतल से लगभग 2122 मीटर है, यहाँ पहुँचने के बाद मसूरी का सुन्दर नजारा देखा जा सकता है |

कैम्पटी जलप्रपात मसूरी का प्रमुख आकर्षण का केंद्र है, जो कि यमुनोत्री मार्ग पर मसूरी शहर से लगभग 15 किलोमीटर की दूरि पर स्थित है | 50 फुट की ऊँचाई से प्राकृतिक रूप से गिरता इस जलप्रपात का पानी बहुत सुन्दर प्रतीत होता है, जिसे देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से यहाँ आते हैं तथा इस जलप्रपात में नहाकर आनन्दित होते हैं |

Nainital ( नैनीताल )

उत्तराखंड राज्य में विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल नैनीताल स्थित है तथा यह नैनीताल जिले का मुख्यालय भी है | नैनीताल शहर को सरोवर नगरी तथा झीलों का शहर के नाम से जाना जाता है | समुद्रतल से नैनीताल की ऊँचाई लगभग 1338 मीटर है |
 
Best Hill Station in Uttarakhand


इस नगर के बीचोंबीच एक बहुत सुन्दर प्राकृतिक झील है | यह झील “नैनी झील” के नाम से जानी जाती है, तथा यह तीन तरफ से 7 पहाड़ियों से घिरी हुई है | नैनीताल की खोज 1841 में पीटर बैरन के द्वारा की गयी थी |
मुनस्यारी उत्तराखंड राज्य का एक खूबसूरत हिल स्टेशन है जो कि पिथौरागढ़ का सीमान्त क्षेत्र है और एक तरफ से तिब्बत से और दूसरी ओर से नेपाल सीमा से लगा हुआ है | चारों तरफ से आसमान को छूती हुई पहाड़ियों की चोटियों से घिरा हुआ यह हिल स्टेशन बहुत खूबसूरत है, और उत्तराखंड के मुख्य पर्यटन स्थलों में से भी एक है, जहाँ प्रतिवर्ष लाखों शैलानी प्रकृति की सुन्दरता को देखने के लिए पहुँचते हैं | 
Best Hill Station in Uttarakhand

मुनस्यारी के सामने की तरफ वर्फ की चादर से ढका पंचाचोली पर्वत अत्यधिक खुबसूरत प्रतीत होता है | किवदंतियों के अनुसार पंचाचोली पर्वत को पाण्डवों का स्वर्गारोहण स्थल माना जाता है | मुनस्यारी के बाईं ओर त्रिशूल पर्वत, दाईं ओर डानाधार तथा पीछे की तरफ खालिया टॉप मुनस्यारी की शोभा बढ़ाते हैं | खालिया टॉप एक पिकनिक स्थल और बहुत ही खूबसूरत ट्रैक है, जहाँ पर्यटकों की भीड़ हमेशा लगी रहती है |
समुद्रतल से लगभग 6300 फीट की ऊँचाई पर स्थित पंगोट नामक गाँव नैनीताल से मात्र 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जो कि अपनी प्राकृतिक सुन्दरता की बजह से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है | 

Best Hill Station in Uttarakhand

भ्रमण के लिए नैनीताल आने वाला प्रत्येक पर्यटक पंगोट जाकर वहां की सुन्दरता को देखना चाहता है | यहाँ स्थित सोनानदी वन्यजीव अभ्यारण में पक्षियों की लगभग 500 से अधिक प्रजातियाँ पायी जाती हैं, जिनकी खूबसूरती देखने के लिए पक्षी प्रेमी देश-विदेश से इस स्थान पर पहुँचते हैं |
फूलों की घाटी उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित एक रास्ट्रीय उधान है, इस  घाटी की खोज 1931 में फ्रैंक स्मिथ के द्वारा की गयी थी, जो की एक पर्वतारोही थे | स्मिथ को यह घाटी इतनी ज्यादा पसंद आई की उन्होंने इस पर एक पुस्तक Valley Of Flowers लिख डाली |
 
Best Hill Station in Uttarakhand

फूलों की घाटी हरियाली और चारों तरफ से हिमालय की चोटियों से घिरी हुई एक अत्यंत खुबसूरत जगह है | फूलों की घाटी के पास पुष्पावती नदी बहती है जो पुष्पतोया ताल से निकलती है और आगे जाकर लक्ष्मण गंगा से मिल जाती है|

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ