` मुनस्यारी की खूबसूरत वादियों के बीच स्थित है नन्दा देवी मन्दिर, जानिये मन्दिर के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

मुनस्यारी की खूबसूरत वादियों के बीच स्थित है नन्दा देवी मन्दिर, जानिये मन्दिर के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

उत्तराखंड सामान्य ज्ञान के आज के लेख में उत्तराखंड के मुनस्यारी में स्थित नन्दा देवी मन्दिर के बारे में जानकारी दी जा रही है, यदि आप नन्दा देवी मन्दिर के बारे में जानने की इच्छा रखते हैं तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें |


nanda devi temple munsiyari

Nanda Devi Temple Munsiyari

नन्दा देवी को उत्तराखंड राज्य के कुमाऊँ तथा गढ़वाल दोनों ही मण्डलों में पूजा जाता है | नन्दा देवी को समर्पित नन्दा देवी मन्दिर मुनस्यारी मुख्य शहर से 3 किलोमीटर की दूरी पर समुद्रतल से 7500 फीट की ऊँचाई पर स्थित है | सुन्दर तथा शांत वातावरण में स्थित माँ नन्दा देवी का यह मन्दिर छोटा किन्तु अत्यधिक ख़ूबसूरत है तथा भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करता है |


nanda devi mandir munsiyari pithoragarh 

नन्दा देवी को नव दुर्गाओं में से एक माना जाता है तथा प्राचीन काल से ही नन्दा देवी की पूजा अर्चना की जाती है, जिसके प्रमाण धार्मिक ग्रंथों तथा उपनिषदों में भी मिलते हैं | सम्पूर्ण हिमालय में माँ नन्दा देवी को शक्ति के रूप पूजा जाता है | प्रत्येक वर्ष मुनस्यारी में स्थित नन्दा देवी मन्दिर परिसर  में नन्दाष्टमी को भाद्र मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को  एक विशाल मेले का आयोजन किया जाता है |

नन्दा देवी मन्दिर से दिखता है पंचाचूली पर्वत का सुन्दर नजारा

प्राकृतिक सुन्दरता के बीच स्थित नन्दा देवी मन्दिर आस्था का तो घर है ही किन्तु साथ में यह एक पर्यटक स्थल भी है | मन्दिर परिसर में खड़े होकर आप पंचाचूली पर्वत का सुन्दर दृश्य देख सकते हैं | कहा जाता है कि पंचाचूली पर्वत में पांचों पाण्डव पांचाली सहित विराजमान हैं | यही कारण है कि वर्फ की सफ़ेद चादर से ढकी इस पर्वत श्रेणी को पंचाचूली पर्वत कहा जाता है |
मुनस्यारी आगमन पर आप पंचाचूली पर्वत, छिपला कोट पर्वत, राजरम्भा पर्वत, हंसलिंग पर्वत, कैलाश द्वारबद्रीनाथ द्वार के दर्शन कर सकते हैं |

panchacholi parvat

🔗 Nanda Devi Raj Jat Yatra in Hindi

 

How to Reach Nanda Devi Temple Munsiyari Pithoragarh

नन्दा देवी मन्दिर पहुँचने के लिए सर्वप्रथम आपको मुनस्यारी पहुँचना होगा, मुनस्यारी पहुंचकर मुख्य शहर से 3 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद सड़क से 200 मीटर की पैदल यात्रा के बाद आप आसानी से नन्दा देवी मन्दिर पहुँच सकते हैं | यदि आप सड़क मार्ग द्वारा मुनस्यारी का सफ़र कर रहे हैं तो पिथौरागढ़ तक सभी मार्ग कुमाऊँ तथा गढ़वाल दोनों मण्डलों से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं | यहाँ तक आप उत्तराखंड के किसी भी शहर से सरकारी बसों के द्वारा या फिर टैक्सी के द्वारा आसानी से पहुँच सकते हैं | यदि आप निजी वाहनों के द्वारा सफ़र कर रहे हैं तो हम अपने पाठकों को बता दें कि पिथौरागढ़ से आगे का मार्ग अत्यधिक जटिल तथा संकरा है, इसलिए उन्हें वाहन चलते समय सावधानी बरतनी होगी |

निकटतम रेलवे स्टेशन - काठगोदाम रेलवे स्टेशन

निकटतम हवाई अड्डा - पन्तनगर हवाई अड्डा 

how to reach nanda devi temple munsiyari

 

उम्मीद करते हैं कि उत्तराखंड सामान्य ज्ञान का नन्दा देवी मन्दिर मुनस्यारी, पिथौरागढ़ से सम्बंधित यह लेख आपको पसंद आया होगा, यदि आप उत्तराखंड में स्थित प्राचीन मंदिरों, यहाँ के पर्यटन स्थलों तथा उत्तराखंड से जुडी किसी भी प्रकार की जानकारी पाने की इच्छा रखते है तो उत्तराखंड सामान्य ज्ञान से जुड़े रहिये |

धन्यवाद

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां