` What is Green-AG Project (in hindi) ? – उत्तराखंड भी शामिल है, भारत से चुने गए 5 राज्यों में जहाँ ग्रीन-एजी परियोजना लागू की जानी है

What is Green-AG Project (in hindi) ? – उत्तराखंड भी शामिल है, भारत से चुने गए 5 राज्यों में जहाँ ग्रीन-एजी परियोजना लागू की जानी है

About Green AG Project (ग्रीन एग्रीकल्चर प्रोजेक्ट के बारे में)

विशेषज्ञों के द्वारा बताया गया है कि,वर्तमान में हो रहे एग्रीकल्चर सिस्टम से पर्यावरण में गलत प्रभाव पड़ रहा है | ग्रीन एग्रीकल्चर प्रोजेक्ट को वैश्विक पर्यावरण लाभ के लिए प्रयोग में लाया जाएगा | यही कारण है कि, कृषि से उत्सर्जन को कम करने तथा कृषि योग्य भूमि को सुनिश्चित करने के लिए ग्रीन-एजी प्रोजेक्ट को GEF (Global Environment Facility) और FAO (Food and Agriculture Organization) के सहयोग से लागू किया जाना है | इस प्रोजेक्ट को देश के 5 राज्यों में कम से कम 1.8 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र में लागू किया जाएगा |
ग्रीन-एजी प्रोजेक्ट को भारत के 5 राज्यों में लांच किया जाना है, जिनमे से एक राज्य उत्तराखंड भी है | उत्तराखंड के अलावा अन्य 4 राज्य मिजोरम,आन्ध्र प्रदेश,राजस्थान तथा उडीसा शामिल हैं |

Green AG Project


पाँचों राज्यों के वह landscape जहाँ ग्रीन-एजी प्रोजेक्ट को लागू किया जाना है –

  1. उत्तराखंड – कॉर्बेट राजाजी लैंडस्केप
  2. मध्य प्रदेश – चम्बल लैंडस्केप
  3. उडीसा – सिमलीपल लैंडस्केप
  4. राजस्थान – डेजर्ट नेशनल पार्क लैंडस्केप
  5. मिजोरम – दम्पा लैंडस्केप

कृषि से उत्सर्जन को कम करने के लिए ‘ग्रीन-एजी पायलट परियोजना’

केंद्र सरकार के द्वारा मिजोरम में “ग्रीन एग्रीकल्चर प्रोजेक्ट” के अन्तर्गत पायलट परियोजना की शुरुआत 28 जुलाई 2020 से कर दी गयी है | मिजोरम उन पांच राज्यों में से एक है, जिनमे यह परियोजना लागू होनी है |

पायलट परियोजना 31 मार्च 2026 तक समाप्त होनी है | इस परियोजना के अन्तर्गत यह लक्ष्य रखा गया है कि, मिजोरम के 2 संरक्षित क्षेत्र दम्पा टाइगर रिजर्व और थोरंगलांग वन्य जीव अभ्यारण सहित कुल 35 गाँव को कवर करना है | इस परियोजना के अन्तर्गत मिजोरम का 1,45,670 हेक्टेयर का भूमि क्षेत्र सम्मिलित है |

Theme of Green AG Project

Transforming Indian agriculture for global environment benefits and the conservation of critical biodiversity and forest landscape.

वैश्विक पर्यावरण लाभ और महत्वपूर्ण जैव विविधता तथा वन परिदृश्य के संरक्षण के लिए भारतीय कृषि को बदलना |

GEF (Global Environment Facility) क्या है ?

Global Environment Facility एक संस्था है, जिसे Rio Earth Summit के समय 1992 में स्थापित किया गया था, तथा यह संस्था Washington (वाशिंगटन) में स्थित है |

  • जहाँ पर भी Global Environment से संबन्धित मुद्दे होते हैं, वहां पर Global Environment Facility (GEF) फंडिंग करता है |
  • Global Environment Facility (GEF) की 183 देशों के साथ अन्तराष्ट्रीय साझेदारी है |
  • GEF के साथ कई अन्तराष्ट्रीय संस्थान भी शामिल हैं |
  • Civil Society Organization और कई प्राइवेट सेक्टर भी GEF का हिस्सा हैं |

 

उम्मीद करते हैं कि,”उत्तराखंड सामान्य ज्ञान” की यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी | यदि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई, तो हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे facebook पेज को like कीजिये |

Facebook Page Link

यदि आप उत्तराखंड की मनमोहक तस्वीरें देखना चाहते है, तो हमारे instagram पेज को follow कीजिये |

Instagram Link

धन्यवाद

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां