` Kainchi Dham (कैंची धाम) – हनुमान जी के अवतार माने जाने वाले नीम करोली बाबा जी का दिव्य आश्रम

Kainchi Dham (कैंची धाम) – हनुमान जी के अवतार माने जाने वाले नीम करोली बाबा जी का दिव्य आश्रम

उत्तराखंड सामान्य ज्ञान” की इस पोस्ट में Kainchi Dham Temple तथा इस मन्दिर में लगने वाले विश्व भर में प्रसिद्ध कैंची धाम मेले के बारे में जानकारी देने वाले हैं | यदि आप कैंची धाम के बारे में विस्तार से जानना चाहते है, तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें |

About Kainchi Dham Ashram (कैंची धाम आश्रम के बारे में)

कैंची धाम आश्रम नीम करोली बाबा जी का प्रसिद्ध मन्दिर तथा प्राकृतिक वादियों के बीच दिव्य तथा रमणीक स्थल है | नीम करोली बाबा हनुमान जी के अवतार माने जाते हैं | मान्यता है कि, हनुमान जी के इस मन्दिर में दर्शन मात्र से ही बिगड़ी तकदीर बन जाती है, इसलिए कैंची धाम आश्रम विश्व भर में प्रसिद्ध है | कैंची धाम आश्रम में हनुमान जी के मन्दिर के साथ साथ भगवान् राम, माता सीता तथा देवी दुर्गा के भी छोटे छोटे मन्दिर बने हुए हैं |

Kainchi Dham Mandir की स्थापना को लेकर कई रोचक कथाएं हैं | जनश्रुति के अनुसार नीम करोली महाराज ने सन 1962 में यहाँ की भूमि पर अपने पावन कदम रखे थे, तथा उनके चरणों की आभा पाकर यहाँ की भूमि धन्य हो गयी थी, तथा 1962 में ही कैची धाम आश्रम की स्थापना हो गयी थी |

कैंची धाम आश्रम

Kainchi Dham Location  

Kainchi Dham Temple (कैंची धाम मन्दिर) हिमालय की गोद में उत्तराखंड राज्य के नैनीताल जिले में भवाली – अल्मोड़ा/रानीखेत रास्ट्रीय राजमार्ग के किनारे स्थित है |

नीम करोली बाबा का यह मन्दिर उत्तराखंड के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सरोवर नगरी नैनीताल से 22 किलोमीटर तथा भवाली से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है|

Kainchi Dham Mela, Nainital, Uttarakhand (कैंची धाम मेला)

विश्व विख्यात कैंची धाम मेले का आयोजन प्रतिवर्ष 15 जून को होता है | इस मेले का हिस्सा बनने के लिए  देश- विदेश  से लाखों श्रद्धालू यहाँ पहुंचते हैं तथा प्रसाद ग्रहण करते है | 15 जून 1964 को मन्दिर में हनुमान जी की मूर्ती स्थापित की गयी थी, यही कारण है कि 15 जून को यहाँ पर भव्य मेले का आयोजन किया जाता है |

बताया जाता है कि, इस मेले में लाखों श्रद्धालु पहुँचते हैं और भण्डारे में आकर प्रसाद ग्रहण करते हैं, किन्तु भंडारे में आज तक भोजन की कमी नहीं हुई है, क्योंकि लोगों का मानना है कि इस दिन नीम करोली बाबा स्वंय भण्डारे में उपस्थित होते हैं और किसी भी चीज की कमी नहीं होने देते हैं |

कैंची धाम मन्दिर

Kainchi Dham – Best Time to Visit ?

वैसे तो आप कैंची धाम में बाबा नीम करोली जी के दर्शन करने के लिए कभी भी आ सकते हैं, किन्तु फरबरी से जून के बीच यहाँ मौसम बहुत सुहाना होता है,इसलिए इस समय यहाँ पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है | 15 जून को प्रतिवर्ष यहाँ पर एक विशाल मेले का आयोजन होता है, तथा इस दिन लाखों श्रद्धालु कैंची धाम पहुँचते हैं |

नीम करोली बाबा


Kainchi Dham Kaise Pahunche (How to Reach Kainchi Dham Ashram)

निकटतम रेलवे स्टेशन – काठगोदाम

काठगोदाम रेलवे स्टेशन की दूरी कैंची धाम से लगभग 38 किलोमीटर है | काठगोदाम पहुँचने के बाद 38 किलोमीटर का सफ़र पहाड़ी मार्ग पर किया जाता है | स्टेशन से कैंची धाम पहुँचने के लिए आप टैक्सी या फिर स्थानीय बसों का प्रयोग कर सकते हैं|

निकटतम हवाई अड्डा – पंतनगर

कैंची धाम का निकटतम हवाई अड्डा “पंतनगर हवाई अड्डा” है, जिसकी दूरी कैंची धाम से लगभग 71 किलोमीटर है | पंतनगर पहुँचने के बाद कैंची मन्दिर पहुँचने के लिए आपको टैक्सी या स्थानीय बसों का प्रयोग करना पड़ेगा |

Nainital to Kainchi Dham

यदि आप उत्तराखंड में स्थित विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो कैंची धाम आश्रम आकर हनुमान जी के अवतार “नीम करोली बाबा” जी के दर्शन जरूर कीजिये | बाबा के दर्शन मात्र से ही भक्तों के सभी दुःख दूर हो जाते है | नैनीताल और कैंची धाम के बीच की दूरी लगभग 22 किलोमीटर है |

यह भी जानें –

    1. जागेश्वर मन्दिर का इतिहास तथा मन्दिर की मान्यताएं
    2. मुक्क्तेश्वर महादेव मन्दिर तथा मुक्क्तेश्वर का इतिहास
    3. बिनसर महादेव मन्दिर का इतिहास  एवं मान्यताएं


उम्मीद करते हैं कि “उत्तराखंड सामान्य ज्ञान” की कैंची धाम से सम्बंधित यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी | यदि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई तो हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे Facebook पेज को like कीजिये |

Facebook Page Link

यदि आप उत्तराखंड की मनमोहक तस्वीरें देखना चाहते हैं, तो हमारे Instagram पेज को follow कीजिये |

Instagram Link

धन्यवाद


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां